बीजेपी ने उतारा राज्यसभा चुनाव में अपना नौंवा प्रत्याशी विपक्ष का बिगडा गणित

नई दिल्ली। राज्यसभा चुनाव में बीजेपी ने अपने पत्ते खोलने शुरू कर दिये हैं। वहीं दूसरी ओर सपा से जुड़े पूर्व नेता नरेश अग्रवाल ने भी बीजेपी को चोला ओढ़ लिया है। आगे का चुनाव बहुत चुनौतीपूर्ण होने वाला है। जिससे विपक्ष का गणित बिगड गया है। विपक्ष सांसे फूलने लगी है। बीजेपी ने राज्यसभा चुनाव में अपने प्रत्याशी का नाम खोल दिया है। तभी से विपक्ष के नेता सकते मे है।
बीजेपी के नए दांव से बीएसपी उम्मीदवार भीमराव आंबेडकर के चुनाव पर पेच फंस गया है। वैसे तो विपक्ष के पास अपने दो उम्मीदवारों को जिताने लायक नंबर हैं, लेकिन क्रॉस वोटिंग की आशंका ने बीएसपी के माथे पर चिंता की लकीर खींच दी है। यूपी में राज्य सभा सीट जीतने के लिए 37 वोट की जरूरत है और एसपी, बीएसपी, कांग्रेस और आरएलडी को मिलाकर विपक्ष के पास 74 वोट हैं। रविवार देर रात तक बीजेपी ने 8 प्रत्याशियों के नामों की घोषणा की थी, लेकिन सोमवार को पार्टी ने नौवां उम्मीदवार उतार दिया, जिसके नाम की घोषणा उसके नामांकन के बाद की गई।

MUZAFFARNAGAR NEWS ऐप पर बेहतर खबरें पाने के लिये अपने ऐप को यहां क्लिक करके अपडेट जरुर कर लें

हालांकि, बीजेपी की ओर से प्रदेश महामंत्री विद्यासागर सोनकर और सलिल विश्नोई ने भी 10वें और 11वें उम्मीदवार के तौर पर पर्चा भरा है, लेकिन इनके पर्चे एहतियातन भरवाए गए हैं, जिससे किसी के पर्चे में कोई कमी होने पर सीट खाली न छूटे। पहले नौ प्रत्याशियों के पर्चे जांच में सही पाए गए तो ये दोनों अपना नाम वापस ले लेंगे। राज्य सभा चुनाव में बीजेपी के 8 और एसपी के एक उम्मीदवार की जीत पक्की है। आठ सीटों पर जीत के बाद बीजेपी के पास 28 विधायकों के मत बच रहे हैं और उसे नौवीं सीट जीतने के लिए 9 और मतों की जरूरत होगी। ऐसे में नौवां उम्मीदवार उतार बीजेपी ने राज्य सभा चुनाव के लिए चक्रव्यूह की रचना कर दी है। राष्ट्रपति चुनाव में 3 निर्दलीय और निषाद पार्टी के एक विधायक ने बीजेपी को वोट दिया था। ऐसे में बीजेपी 32 वोट तो तय मानकर चल रही है। सोमवार को एसपी के पूर्व नेता नरेश अग्रवाल के बीजेपी में शामिल होने के बाद उनके एसपी विधायक बेटे नितिन अग्रवाल का वोट भी बीजेपी को मिलने की पूरी उम्मीद है। इस तरह बीजेपी जीत के आंकड़े से 4 वोट दूर रह रही है। कहा जा रहा है कि अग्रवाल अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर विपक्ष के कुछ विधायकों को तोड़ भी सकते हैं। अगर क्रॉस वोटिंग हुई तो पार्टी के नौवें कैंडिडेट के लिए राह आसान हो जाएगी। विधानसभा में इस समय सहयोगी दलो समेत बीजेपी के पास 324 विधायक हैं। बिजनौर के नूरपुर के बीजेपी विधायक लोकेंद्र सिंह के निधन से एक सीट खाली है।

loading…