शामली में आंगनवाडी कर्मचारी संघ का धरना प्रदर्शन, उठाई ये मांग

शामली। महिला आंगनबाडी कर्मचारी संघ की पदाधिकारी महिलाओं ने शामली कलक्ट्रेट में धरना प्रदर्शन कर एडीएम को ज्ञापन सौंपा, जिसमें उन्होने मानदेय वृद्धि एवं विभिन्न समस्याओं का समाधान कराये जाने की मांग की है।
बुधवार को महिला आंगनबाडी कर्मचारी संघ की दर्जनों पदाधिकारी महिलाओं ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर शामली कलक्ट्रेट में धरना प्रदर्शन किया। धरने को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष सरिजा जयंत ने कहा कि 120 दिन का वायदा करने वाली भाजपा सरकार को लगभग 2 वर्ष पूरे हो रहे है, लेकिन अभी तक मानदेय में बढोतरी नही की गई। महिला सशक्तिकरण की बात करने वाली भाजपा सरकार ने उल्टा सबसे अधिक महिलाओं का अपमान किया है। जब भी महिलाओं ने अपने अधिकार की बात की तो भाजपा ने मानदेय रूकवा दिया, सेवाऐं समाप्त करा दी। यहां तक की महिलाओं पर एफआईआर दर्ज कराकर लाठियां बरसाई गई। जिनका केवल सरकार द्वारा वार्ता से समाधान निकाला जा सकता था, लेकिन तानाशाह की पराकाष्ठा है। भाजपा सरकार ने महिलाओं पर अत्याचार की दर सीमाओं को पार कर दिया। उन्होने कहा कि इतनी महंगाई में मात्र 4 हजार रूपये आंगनबाडी कार्यकत्री 3 हजार मिनी आंगनबाडी कार्यकत्री तथा 2 हजार सहायिका का परिवार भुकमरी की कगार पर है। जो अत्यंत की निंदनीय है। इन्ही विषयों को लेकर भाजपा सरकार का वादा खिलाफी के विरूद्ध आंगनबाडी महिलाऐं दो दिन की हडताल पर है। उन्होने चेतावनी दी कि जब तक उनकी मांगे पूरी नही होती वह आन्दोलन करती रहेगी। इस दौरान उन्होने एडीएम केबी सिंह को ज्ञापन सौंपा, जिसमें उन्होने आंगनबाडी वर्कर को ग्रेड 3 तथा हेल्पर को ग्रेड 3 कर्मचारी के रूप में नियमित किया जाये। केन्द्र व राज्य सरकार के बीच 60.40 अनुपात में मानदेय बांटने की बजाये पूरा पैसा केन्द्र सरकार से दिलाया जाये। वर्कर तथा केल्पर की बीमा आयु के बाद बीमा राशि का पूरा भुगतान कराया जाये। प्रमोशन की सीमा आयु समाप्त कर सभी को बराबर का लाभ दिलाया जाये। इस अवसर पर शाहजहां, अंजू, प्रविता, इरशादी, बुशरा, रेखा, इमराना, उर्मिला, सरोज सैनी, सुरेश, बबली, सीमा, कविता, बबीता आदि मौजूद रही।

Loading…