बैंकों की हडताल से करोडों का लेनदेन ठप्प, एटीएम खाली, लोग परेशान

शामली। केंद्र सरकार की नीतियों के विरोध में बैंक और एलआइसी कर्मचारी बुधवार को दूसरे दिन भी हड़ताल पर रहे। इससे जिलेभर में करोड़ों का लेनदेन प्रभावित हुआ और लोगों को परेशानी भी उठानी पड़ी। बैंक कर्मचारियों ने ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और एलआइसी कर्मचारियों ने वर्मा मार्केट स्थित कार्यालय में केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर प्रदर्शन भी किया।
बुधवार को केंद्रीय श्रम संगठनों एवं औद्योगिक फेडरेशन यूनियन के आह्वान पर राष्ट्रीयकृत बैंकों की हड़ताल दूसरे दिन भी जारी रही। राष्ट्रीयकृत बैंककर्मियों ने जुलूस निकालकर संबधित बैंकों को बंद करा दिया। उधर, यूपी बैंक इंप्लाइज यूनियन के जिला सचिव इंद्रपाल सिह राठी के नेतृत्व में जिले के बैंककर्मियों ने राष्ट्रीयकृत बैंक पूरी तरह से बंद करा दिए गए। उन्होंने बताया कि भारतीय स्टेट बैंक व इंडियन ओवरसीज बैंकों समेत निजी बैंकों को छोड़कर सभी बैंकों में हड़ताल के कारण ताले लटके रहे। हड़ताल के कारण जिले में सैकडों करोड़ रुपये का लेनदेन प्रभावित हुआ है।
शामली जिले के भारतीय स्टेट बैंक व इंडियन ओवरसीज बैक व निजी बैंकों को छोड़कर सभी राष्ट्रीयकृत बैंकों में हड़ताल रही। पंजाब नेशनल बैंक के जिला अग्रणीय बैंक प्रबंधक शैलेश कुमार ने कहा कि जिले में 110 बैंकों की शाखाएं हैं। इनमें भारतीय स्टेट बैंक व इंडियन ओवरसीज बैंक व प्राइवेट बैंक हमेशा की तरह खुले रहे। प्रति बैंक में बीस लाख रुपये का कारोबार होता है। बैंककर्मियों की हड़ताल के कारण जिले में कई स्थानों मे एटीएम भी धोखा दे गए, वही जिन एटीएम में पैसे रहे. उनमें लंबी लंबी लाइनें लगी रही। शहर के हनुमान रोड स्थित स्टेट बैक के एटीएम की कनक्टीविटी गायब मिली। कई बैंकों का एटीएम का शटर बंद रहने से ग्राहक मायूस होकर लौट गए। बैंक कर्मचारियों ने केंद्र सरकार की नीतियां बेहद गलत बताया हैं। देशव्यापी इस हड़ताल में ऑल इंडिया बैंक एंप्लाइज यूनियन और बैंक एंप्लाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया में शामिल संगठनों से जुड़े कर्मचारी शामिल हैं। सरकार की श्रम नीति मजदूर विरोधी है। साथ ही सरकार बैंकों का विलय कर रही है, जो नामंजूर है। एनपीए वसूली के लिए कोई कड़ा कानून भी नहीं बनाया जा रहा है। बैंकों में काम का भार बढ़ता जा रहा है, लेकिन रिक्त पदों पर नियुक्ति नहीं हो रही। स्थायी पदों पर आउटसोर्स भर्ती भी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

Loading…