ठंड से कांपा राजस्थान, जानिये कब मिलेगी राहत

जयपुर. प्रदेश में कड़ाके की ठंड ने जन-जीवन को अस्त-व्यस्त कर रखा है. कई शहरों में शीतलहर के कारण ठंड काफी बढ़ गई है. ऐसे में लोग अपने घरों में दुबक कर बैठे हैं. वहीं ठंड से खेत की फसलों पर भी बुरा असर पड़ रहा है. साथ ही सर्द हवाएं हड्डियों तक छू जा रही हैं. भारी भरकम कपड़ों में भी लोग ठंड से जुझते नजर आ रहे हैं. अभी ठंड से राजस्थान को जल्द राहत मिलने की उम्मीद नहीं है।
बता दें जैसलमेर में शुक्रवार को दिनभर हल्की बूंदाबांदी हुई. मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटे में पश्चिमी इलाकों में मावठ की संभावना जताई है. शुक्रवार को जयपुर में दिनभर धूप खिली, लेकिन शीतलहर भी जारी रही.
वहीं बाजारों में लोगों ने अलाव तापकर ठंड से बचने का प्रयास किया. हालांकि दोपहर में लोगों को धूप से कुछ राहत मिली लेकिन, दिन भर गलन बनी रही. उधर, ग्रामीण क्षेत्र में लोग अलाव का सहारा लेते नजर आए. ग्रामीणों का कहना है कि इस बार सर्दी ने कई साल का रिकॉर्ड तोड़ा दिया है. हाड़कंपा देने वाली सर्दी से लोगों के धूजणी छूट गई है. ग्रामीण इलाकों में किसान अपने मवेशियों को भी ठंड से बचाते नजर आए.
उधर, मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले 24 घंटे में प्रदेश के पश्चिमी इलाकों में मवाठ गिर सकता है. श्रीगंगानगर, झुंझुनूं, सीकर, चूरू, हनुमानगढ़, अलवर, भरतपुर और दौसा सहित राज्य के उत्तरी इलाकों में भारी कोहरा पड़ सकता है. सर्द हवाओं से गलन के साथ ठिठुरन बढ़ गई. भीलवाड़ा में 2.5 डिग्री, वनस्थली में 4.0 डिग्री, पिलानी 4.3 डिग्री, अलवर 5.4 डिग्री, माउंटआबू 3.0 डिग्री, सीकर, 2.0 डिग्री, चित्तौड़गढ़ 4.0 डिग्री, बीकानेर 8.6 डिग्री, चूरू2.4, गंगानगर 4.0 जबकि फतेहपुर में तापमान 0.8 डिग्री सेल्सियस रहा.

Loading…