कर्जमाफी के बाद अब बेरोजगारी भत्ते का नंबर, ये है ताजा अपडेट

जयपुर। राजस्थान में कांग्रेस को बहुमत मिले एक महीना का समय हो गया है, लेकिन अभी तक किसानों को कर्जमाफी का लाभ नहीं मिल पाया है, वहीं कांग्रेस के दूसरे बडे वादे 3500 रुपये बेरोजगारी भत्ते को लेकर कहीं कोई खबर नहीं है।
यदि सरकार अपने वादे के मुताबिक 3500 रुपए का मासिक बेरोजगारी भत्ता देती है तो सालाना करीब 26 अरब रुपए का इंतजाम करना होगा। बेरोजगार युवाओं का कहना है कि कांग्रेस ने बेरोजगारी भत्ते का ऐलान कर उन्हें भारी राहत देने का काम किया है, लेकिन भारी भरकम आर्थिक भार के चलते यह देना संभव हो पाएगा अथवा नहीं यह बड़ा सवाल है। अलबत्ता युवाओं की मांग है कि सरकार अब जल्द से जल्द उन्हें बेरोजगारी भत्ता शुरु कर देना चाहिए। कई का कहना है कि यह अमल लोकसभा चुनाव से पहले हो जाना चाहिए। बेरोजगारों की असल संख्या रजिस्ट्रेशन की तुलना में काफी ज्यादा है।
राजस्थान बेरोजगार संघ के प्रदेशाध्यक्ष उपेन यादव का दावा है कि राज्य में इस समय करीब 50 लाख युवा बेरोजगार हैं। यादव का कहना है सरकारी रिकॉर्ड में यह संख्या काफी कम है क्योंकि ज्यादातर बेरोजगार रजिस्ट्रेशन नहीं करवाते। बेरोजगारी भत्ते की घोषणा के साथ ही अब रजिस्ट्रेशन कराने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा होगा। इधर रोजगार कार्यालय से जुड़े अफसरों का कहना है कि बेरोजगारी भत्ते को लेकर जो भी फैसला करना है वो मुख्यमंत्री के स्तर पर ही होगा, उनका काम सिर्फ रजिस्ट्रेशन का है।

Loading…