जोधपुर की अनुसूचित जाति-जनजाति अदालत ने हार्दिक पांडया पर दिया एफआईआर दर्ज करने का आदेश

हार्दिक पंड्या
हार्दिक पंड्या

जोधपुर। संविधान निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर पर टिप्पणी के मामले में क्रिकेटर हार्दिक पंड्या मुश्किल में घिरते दिख रहे हैं। जोधपुर की एक अनुसूचित जाति-जनजाति अदालत ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है। पंड्या के खिलाफ याचिका दाखिल करने वाले डी.आर. मेघवाल के मुताबिक पंड्या ने 26 दिसंबर, 2017 को अपने ट्विटर अकाउंट पर एक टिप्पणी लिखी थी, जिसमें उन्होंने अांबेडकर का अपमानित किया था और दलित समुदाय के लोगों की भावनाओं को आहत किया था। मेघवाल के मुताबिक पंड्या ने ट्वीट किया था, ‘कौन आंबेडकर? वह व्यक्ति जिसने देश के संविधान का ड्राफ्ट तैयार किया या फिर वह जिसे देश को आरक्षण नाम की बीमारी दे दी।’ पंड्या की इस टिप्पणी के खिलाफ मेघवाल ने याचिका दाखिल की थी। खुद को राष्ट्रीय भीम सेना का सदस्य बताने वाले मेघवाल ने अपनी याचिका में कहा था कि उनके जैसे क्रिकेटर ऐसी टिप्पणी कर न सिर्फ संविधान का अपमान किया है बल्कि दलित समुदाय की भावनाओं को भी आहत किया है। मेघवाल ने कहा, ‘जनवरी में सोशल मीडिया के जरिए मुझे हार्दिक पंड्या की टिप्पणी के बारे में जानकारी मिली। यह अंबेडकर जैसी हस्ती के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी थी। इसके अलावा यह समुदायों के बीच नफरत फैलाने वाली थी।’