मुजफ्फरनगर में भारत बंद के दौरान जमकर बवाल, आगजनी, तोडफोड, दर्जनों घायल-देंखे तस्वीरें

मुजफ्फरनगर। सुप्रीम कोर्ट के एससी-एसटी एक्ट में बदलाव के फैसले के विरोध में आहूत भारत बंद के दौरान आज मुजफ्फरनगर में दिनभर बवाल हुआ। बवाल के दौरान जहां एक व्यक्ति की मृत्यु होने की सूचना है, वही पुलिसकर्मियों सहित काफी लोग घायल हो गये। बवाल के चलते जिले में पूरे दिन अफरा-तफरी व दहशत का माहौल बन गया। शहर भर में अनेक जगहों पर तोडफोड हुई और आगजनी की कई घटनायें हुई। दुकानों में लूटपाट के साथ-साथ कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया।


प्राप्त जानकारी के अनुसार मुजफ्फरनगर में आज सुबह से ही भारत बंद के ऐलान के चलते आंदोलनकारियों ने हिंसक रुप धारण कर लिया। आज सुबह से ही आंदोलनकारी मुजफ्फरनगर के राजकीय इंटर कॉलेज का मैदान में इकटठा हो गये थे।

दोपहर तक भारी भीड मैदान में जमा हो चुकी थी। भीड नेतृत्वहीन थी। इसके बाद भीड नारेबाजी करती हुई राजकीय इंटर कॉलेज के मैदान से निकलकर महावीर चौक पर पहुंची और दुकान और प्रतिष्ठान बंद कराने का प्रयास कियाए व्यापारियों ने विरोध किया तो भीड ने तोडफोड शुरु कर दी।

इसी हो हल्ले के साथ भीड रोडवेज बस स्टैंड से होती हुई रेलवे स्टेशन पर पहुंची। भीड़ ने स्टेशन पर भी जमकर बवाल काटा व नारेबाजी और प्रदर्शन किया।

भीड के नेतृत्वहीन होने के कारण वह बेकाबू दिख रही थी।

हिंसक भीड ने नई मंडी थाने पर जमकर बवाल काटा और कई वाहनों को आग लगा दी और जमकर तोडफोड की।

हिंसक प्रदर्शन के दौरान एक व्यक्ति के मरने की भी सूचना है। मृतक का नाम अमरीश निवासी गांव गादला थाना भोपा बताया जा रहा है। समाचार लिखे जाने तक इसकी पुष्टि नहीं हो पाई थी।

इसके अलावा एक रेलवे कर्मचारी प्रताप की कमर में भी गोली लगी है, उसकी हालत भी गंभीर बनी हुई है।

हालांकि अभी प्रशासन ने किसी के मरने की पुष्टि नहीं की है। शहर में उपद्रवियों ने जमकर बावल काटा। करीब दो दर्जन स्थानों पर तोडफ़ोड़ हुई।

दाल मंडी में व्यापारियों के साथ आंदोलनकारियों की झडप हुई। रेलवे स्टेशन पर भी बवालियों का कब्जा रहा। ट्रेनों में पथराव और तोडफ़ोड़ हुई। उपद्रवी ट्रैक पर जमे रहे।