वकील के साथ मारपीट व लूट पर भडके अधिवक्ता, एसडीएम का किया घेराव

मुजफ्फरनगर। एक सप्ताह पूर्व खतौली तहसील परिसर में अपने चेम्बर में बैठे वकील से कस्बे के एक मोहल्ले के आधा दर्जन युवको ने किसी बात को लेकर जमकर मारपीट की थी। इस दौरान आरोपी युवको पर पीड़ित वकील ने एक स्टाम्प वेंडर से भी मारपीट कर उससे हजारो रुपये की नकदी लूटने का आरोप लगाया था। घटना की सूचना पर तहसील पहुची पुलिस ने कार्यवाही करते हुए मौके से दो हमलावर युवको को हिरासत में लेकर कोतवाली आ गयी थी। और घायल वकील को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया था। पुलिस ने कोतवाली में युवको से कड़ी पूछताछ करने के बाद उन्हें जेल भेज दिया था। वही शुक्रवार को वकील प्रकरण में पुलीस की ढीली कार्यवाही को लेकर तहसील के अधिवक्ताओं ने एसडीएम का घेराव कर आरोपीयो पर कड़ी कार्यवाही करने की मांग की एसडीएम ने तहसील में कोतवाल को बुलाकर पूरे प्रकरण पर चर्चा करने के बाद आक्रोशित अधिवक्ताओं को मामले कड़ी कार्यवाही करने का आश्वशन दिया जिसके बाद अधिवक्ता शांत होकर वापस अपने चेम्बरो में चले गए थे।
गौरतलब है कि आदमपुर मोचडी के सुभाष चंद तहसील में अधिवक्ता व तहसील बार संघ के पूर्व सचिव है। एक सप्ताह पूर्व वो तहसील परिसर में बने अपने चेम्बर में बैठे थे। उनके साथ स्टाम्प वेंडर महेश भी चेम्बर में मौजूद था। इस दौरान कस्बे के मोहल्ला देवीदास निवासी आधा दर्जन युवक तहसील में अधिवक्ता सुभाष चंद के चेम्बर में आये और अधिवक्ता से अपने किसी मुकदमे के बारे में बात करने लगे इस दौरान युवको ने उनके द्वारा अधिवक्ता को मुकदमे की दी हुई फीस की वापस देने की अधिवक्ता से मांग करने लगे जिसको लेकर युवको और अधिवक्ताओं में काफी देर तक नोक झोंक हुई इस दौरान युवको ने वकील सुभाष चंद पर धार धार हथियारों से हमला बोल दिया और अधिवक्ता का मोबाइल लूटकर फरार होने लगे तभी वकील के चेम्बर में बैठे स्टाम्प वेंडर महेश ने युवको का पीछा किया तो आरोप है। कि युवको ने वेंडर महेश पर भी धार धार हथियारों से हमला बोल दिया जिससे महेश भी गंभीर रूप से घायल हो गया था। आरोप था। की हमलावर युवको ने स्टाम्प वेंडर महेश से मारपीट के दौरान सत्तर हजार रुपये की नकदी भी लूट ली थी।उधर घटना की सूचना पर कोतवाली पुलिस भी मौके पर पहुची और पुलिस ने घटना स्थल से मारपीट करने वाले दो युवको को दबोच लिया था। जबकि अन्य युवक पुलिस को चकमा देकर मौके से फरार हो गये थे। पुलिस ने दोनो युवको से कड़ी पूछताछ करने के बाद उन्हें जेल भेज दिया था। शुक्रवार को अधिवक्ता प्रकरण में पुलिस पर ढीली कार्यवाही का आरोप लगाकर तहसील के अधिवक्ताओं ने एसडीएम इन्द्रकांत द्विवेदी का घेराव कर कोतवाल संतोष कुमार सिंह पर वकील पर हमलावर युवको को मामूली धारा में जेल भेजने का आरोप लगाया एसडीएम ने मामले की गंभीरता को देखते हुए कोतवाल को तहसील में बुलाया और वकील के साथ मारपीट के मामले में पूरे प्रकरण पर वार्ता की जिसके बाद कोतवाल संतोष कुमार सिंह ने आक्रोशित अधिवक्ताओं को बताया कि मामले की जांच कर्ता आईयो किसी काम से बहार गये हुए उनके आते ही पूरे मामले की जांच कराकर हमलावर युवको पर कड़ी कार्यवाही की जायेगी वही वकीलों ने कोतवाल को मामले की जांच करने के लिये सोमवार तक का समय दिया है। अधिवक्ताओं ने वकील प्रकरण में कड़ी कार्यवाही ना होने पर तहसील में कलम बंद हड़ताल की भी चेतावनी एसडीएम को दी है। उधर सोमवार तक का आश्वशन मिलने पर अधिवक्ता अपने चेम्बरो मे वापस लौट गए थे।