मुजफ्फरनगर में एटूजेड प्लांट पर प्रशासन का कब्जा!, उठाए ये सख्त कदम

मुजफ्फरनगर। एटूजेड की हड़ताल से शहर में बिगड़े सफाई के हालातों को देखते हुए जिला प्रशासन ने किदवईनगर में स्थित एटूजेड प्लांट पर कब्जा लिए जाने की सूचना मिल रही है। अब जिला प्रशासन नगर पालिका से इस प्लांट को चलवाएगा। समाचार लिखे जाने तक इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई थी।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक डीएम ने डिप्टी कलक्टर कुमार धर्मेन्द्र सिंह को प्लांट का प्रभारी बनाया है। वहीं एटूजेड से 260 सफाई कर्मचारियों की भी सूची मांगी गई है। एटूजेड कम्पनी की हड़ताल के बाद से शहर के ढलावघरों से कूड़ा नहीं उठ पाया है। हालांकि नगर पालिका ने किराए पर वाहन लेकर ढलावघरों से कूड़ा उठवाने का प्रयास किया, लेकिन कोई सफलता नहीं मिल पाई। ऐसे में शहर के सभी ढलावघरों पर कूड़े के ढेर लगे हुए हैं। कूड़ा सड़कों पर आ गया है। शहर की सफाई व्यवस्था ठप होता देख डीएम राजीव शर्मा ने इस मामले में गंभीरता से संज्ञान लिया। सूचना है कि शहर में सफाई व्यवस्था में सुधार करने के लिए जिला प्रशासन ने एटूजेड प्लांट पर कब्जा लिया है। हालांकि एटूजेड कम्पनी को अभी अलग नहीं किया गया है। बताया गया कि कूड़ा बहुत की कम सफाई कर्मचारी उठा रहे थे, लेकिन एटूजेड 260 सफाई कर्मचारियों के हिसाब से पालिका से भुगतान ले रहा था। इन सफाई कर्मचारियों की तलाश की जा रही है। इस संबंध में प्रशासनिक अधिकारियों से वार्ता करने का प्रयास किया गया, लेकिन उनके नंबर स्विच ऑफ मिले।