मुजफ्फरनगर के इस रिश्वतखोर बाबू ने की ऐसी गंदी हरकत, देखकर उड जायेंगे होश

मुजफ्फरनगर। जिले के सरकारी विभागों में सरकार बदलने के बाद भी किस कदर लूट मची हुई है, इसकी बानगी आज देखने को मिली जब विद्युत विभाग के एक बाबू को 22 हज़ार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया।
मिली जानकारी के अनुसार थाना रतनपुरी क्षेत्र के गांव चंदसीना निवासी एक व्यक्ति से खतौली के अधिशासी अभियंता कार्यालय में तैनात बाबू आनंद कुमार उनसे एक घरेलू कनेक्शन के मामले में 22 हज़ार रुपये की रिश्वत मांग रहा था। पीड़ित द्वारा 15 हज़ार रुपये आरोपी बाबू को पहले भी दिए गए थे। मगर 22 हजार रुपये की रिश्वत मांगने पर पीड़ित ने मेरठ की एंटी करप्शन टीम से संपर्क किया और सारा मामला उन्हें बता दिया जिसके बाद एंटी करप्शन टीम ने आरोपी बाबू को 22 हज़ार की रिश्वत के साथ रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया है।

और रिश्वतखोर बाबू के खिलाफ खतौली थाने में मुकदमा दर्ज करा आगे की कार्रर्वाइ शुरु कर दी है। दरअसल थाना रतनपुरी क्षेत्र के गांव चंदसीना निवासी मेहराज व उसके भाई का खतौली में सराफान मोहल्ले में एक पुराना मकान है शिकायतकर्ता मेहराज के अनुसार उस मकान में उनके दादा रहम इलाही के नाम से बिजली का कनेक्शन चल रहा था। उसी मकान में जेनरेटर का केवल भी पड़ा था। जिसे बिजली विभाग के कर्मचारियों ने अवैध घोषित कर उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू की थी। जिसमें पीड़ितों द्वारा बिजली विभाग के इस बाबू आनंद कुमार से संपर्क किया गया, तो इसने 70 हज़ार का खर्चा बताते हुए उसे 37 हज़ार रुपये में निपटाने के सौदा कर लिया। जिसमे पीड़ित से आरोपी बाबू ने 15 हज़ार रुपये पहले ले लिए थे। इसके बाद 22 हज़ार रुपये बाद में देने की बात हुई थी। पीड़ित द्वारा सोमवार को रिश्वतखोर इस बाबू की शिकायत मेरठ की एंटी करप्शन टीम को की गई जिसके बाद टीम ने पीड़ित की शिकायत पर खतौली पहुंचकर आरोपी बाबू को उसी के कार्यालय से पीड़ित से 22 हज़ार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। एंटी करप्शन टीम के प्रभारी निरीक्षक जे के तोमर ने बताया कि शिकायतकर्ता मेहराज से आरोपी बाबू 22 हजार रुपये की रिश्वत मांग रहा था। जिसकी उन्होंने मेरठ एंटी करप्शन टीम को शिकायत की और आज हमने इसे मौके से 22 हज़ार रुपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस थाने में मुकदमा दर्ज करा कर आरोपी को जेल भेजा जा रहा है।