पीने तो दूर नहाने लायक भी नहीं रहा Haridwar में Ganga का पानी

ganga water in haridwar, haridwar, haridwar water, polluted water of haridwar, हरिद्वार, हरिद्वार का पानी

ganga water in haridwar, haridwar, haridwar water, polluted water of haridwar, हरिद्वार, हरिद्वार का पानी

dehradun. ganga में स्नान करने से भले आपके पाप ‘धुल’ जाएं, लेकिन इसका पानी आपको बीमार कर सकता है। हरिद्वार जाकर आप ganga में डुबकी लगाकर अच्छा महसूस करते होंगे, लेकिन यकीन मानिए यहां पानी इतना गंदा है कि पीना तो दूर, नहाने लायक भी नहीं बचा है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड(CPCB) ने एक आरटीआई के जवाब में बताया है कि हरिद्वार में ganga नदी का पानी नहाने के लिए भी ठीक नहीं है।




CPCB ने कहा कि हरिद्वार जिले में ganga का पानी तकरीबन हर पैमाने पर असुरक्षित है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, हरिद्वार के 20 घाटों में रोजाना 50,000 से 1 लाख श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगाते हैं। उत्तराखंड में गंगोत्री से लेकर हरिद्वार जिले तक 11 लोकेशन्स से ganga पानी की गुणवत्ता की जांच के लिए सैंपल लिए गए थे। ये 11 लोकेशन्स 294 किलोमीटर के इलाके में फैली हैं। बोर्ड के वरिष्ठ वैज्ञानिक आरएम भारद्वाज ने बताया, इतने लंबे दायरे में ganga के पानी की गुणवत्ता जांच के 4 प्रमुख सूचक रहे, जिनमें तापमान, पानी में घुली ऑक्सिजन(DO), बायलॉजिकल ऑक्सिजन डिमांड(BOD) और कॉलिफॉर्म(बैक्टीरिया) शामिल हैं। हरिद्वार के पास के इलाकों के गंगा के पानी में BOD, कॉलिफॉर्म और अन्य जहरीले तत्व पाए गए।

पोर्न वीडियो देखने के लिए क्या-क्या नहीं करते हैं इंडियंस

CPCB के मानकों के मुताबिक, नहाने के एक लीटर पानी में BOD का स्तर 3 मिलीग्राम से कम होना चाहिए, जबकि यहां के पानी में यह स्तर 6.4mg से ज्यादा पाया गया। इसके अलावा, हर की पौड़ी के प्रमुख घाटों समेत कई जगहों ganga के पानी में कॉलिफॉर्म भी काफी ज्यादा पाया गया। प्रति 100ml पानी में कॉलिफॉर्म की मात्रा जहां 90 MPN(मोस्ट प्रॉबेबल नंबर) होना चाहिए, वह 1,600 MPN तक पाई गई। CPCB की रिपोर्ट के मुताबिक नहाने के पानी में इसकी मात्रा प्रति 100 ml में 500 MPN या इससे कम होनी चाहिए।

loading…


ताजा समाचार पाने के लिए यहां क्लिक कर हमारा फेसबुक पेज लाईक करें

 haridwar ganga water

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*