एक चिट्ठी की वजह से आए गुरमीत राम रहीम के बुरे दिन

पंचकूला। पत्रकार छत्रपति मर्डर केस में पंचकूला की विशेष सीबीआई कोर्ट ने शुक्रवार को मुख्य आरोपी डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम समेत चार लोगों को दोषी करार दिया है. राम रहीम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश किया गया. राम रहीम इस समय रोहतक की सुनारिया जेल में साध्वी यौन शोषण मामले में सजा काट रहा है. साध्वी ने एक खत ने गुरमीत राम रहीम को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया था. यौन शोषण का शिकार हुई साध्वी ने एक ख़त लिखा था, जिसने डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम का साम्राज्य गिरा दिया. साध्वी ने लिखे खत में कहा था कि राम रहीम उससे, डेरा की साध्वियों से कहता था, “श्री कृष्ण भगवान थे, उनके यहां 360 गोपियां थीं. जिनसे वह हर रोज़ प्रेम लीला करते थे. फिर भी लोग उन्हें परमात्मा मानते हैं, यह कोई नई बात नहीं है.”

मैं बीए पास लड़की हूं. मेरे परिवार के सदस्य महाराज के अंध श्रद्धालु हैं. जिनकी प्रेरणा से मैं डेरे में साधू बनी थी. एक दिन डेरे के ऊपर वाले कमरे में जाकर मैंने देखा महाराज बेड पर बैठे हैं. हाथ में रिमोट है, सामने टीवी पर ब्लू फिल्म चल रही है. बेड पर सिरहाने की ओर रिवॉल्वर रखा हुआ है. मुझे देखकर महाराज ने टीवी को बंद कर दिया और मुझे साथ बिठाकर पानी पिलाया और कहा कि मैंने तुम्हें अपनी खास प्यारी समझकर बुलाया है. महाराज ने मुझे बांहों में लेते हुए कहा कि हम तुझे दिल से चाहते हैं. तुम्हारे साथ प्यार करना चाहते हैं. मेरे विरोध करने पर उन्होंने कहा कि इसमें कोई शक नहीं हम ही खुदा हैं.साध्वी ने खत में लिखा, “हमें सफेद कपड़े पहनना, सिर पर चुन्नी रखना, किसी आदमी की तरफ आंख न उठाकर देखना, आदमी से 5-10 फुट की दूरी पर रहना महाराज का आदेश है. दिखाने के लिए हम देवी हैं मगर हमारी हालत वेश्याओं जैसी है.”

Loading…