कोठे पर मस्ती करने गया था, सामने खडी मिली बहन तो उडे होश…

loading...

बेगूसराय (बिहार)। यहां फेरी का काम करने वाला एक शख्स फेरी करते-करते रेड लाइट एरिया में पहुंच गया। यहां उसने चार साल पहले गायब हुई दोस्त की बहन को देखा। दोनों ने एक-दूसरे को पहचाना तो लड़की ने उसे अपनी कहानी बताई। फिर शख्स ने इसकी सूूचना अपने दोस्त को दी। इसके बाद लड़की का बहन पुलिस के पास पहुंचा और फिर लड़की को रेड लाइट एरिया से छुड़ा लिया गया।


बरामद एक लड़की ने पुलिस को बताया कि करीब तीन साल पहले हरियाणा की एक महिला ने उसे शादी का झांसा दिया था। इसके बाद महिला ने उसे काम दिलवाने का झांसा देकर पहले उसे किशनगंज के चकलाघर में बेच दिया गया। बाद में उसे अशोक खलीफा के यहां फिर से बेच दिया गया। यहां उससे जबरन देह व्यापार कराया जाने लगा। इसका विरोध करने पर उसे मारा पीटा जाता था।

loading...


वहीं दूसरी लड़की ने बताया कि वह झारखंड के गुमला जिले की आदिवासी है। जो पिछले दस साल से इस दलदल में फंसी है। उसने बताया कि उसे नौकरी दिलाने के नाम पर एक औरत पटना ले आई। वहां कुछ दिन रखने के बाद यहां लाकर उसे बेच दिया गया। तब से वह यहीं फंसी हुई है। इस दौरान उसने एक बेटी को भी जन्म दिया। जो अब पांच साल की है।


पुलिस ने बताया कि बुधवार को दो युवतियों को रेड लाइट एरिया से मुक्त कराया गया। दोनों की बरामदगी अशोक खलिफा और नसीमा खातून नाम के कोठे से की गई है। जानकारी के मुताबिक सुबह करीब ग्यारह बजे पुलिस यहां पहुंची और अशोक खलीफा के घर में सर्च अभियान चलाया। पुलिस के पहुंचते ही दोनों लड़कियां पुलिस से अपनी कहानी बताने लगी और छुड़ाने की बात कही। इसके बाद बरामद लड़की की निशानदेही पर पुलिस ने अशोक खलीफा की पत्नी नसीमा खातून तथा उसके बेटे राहुल को अरेस्ट कर लिया।

loading...

Loading…