बडी खबरः रहें सावधान, कल मुजफ्फरनगर सहित वेस्ट यूपी के इन जिलों में तबाही मचा सकता है तूफान


ताजा खबरें लगातार पाने के लिये यहां क्लिक करके  ऐप को update करें

लखनऊ। बुधवार शाम को आई मौत की आंधी में प्रदेश के 22 जिलों में 73 लोगों की जान चली गई जबकि 91 लोगों घायल हैं, जिनका इलाज चल रहा है. जानमाल की भारी क्षति के बीच करीब 160 मवेशियों की भी मौत हो गई. मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक अभी खतरा टला नहीं है. शनिवार यानी 5 मई को पूर्वी और पश्चिमी यूपी के अधिकांश जिलों में धूल भरी आंधी, ओलावृष्टि और भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. मौसम विभाग के पूर्वानुमान के बाद सभी जिलों के डीएम को अलर्ट पर रहने का निर्देश दिया गया है।


मौसम विभाग के मुताबिक अम्बेडकरनगर, बहराइच, गोंडा, बलरामपुर, सीतापुर, गोरखपुर, बलिया, मऊ, गाजीपुर, बस्ती, कुशीनगर, महाराजगंज, संत कबीरनगर, सिद्धार्थनगर, खीरी, शाहजहांपुर, पीलीभीत, रामपुर, बरेली, बदायूं, अलीगढ़, नोएडा, एटा, महामायानगर, मथुरा, बुलंदशहर, मुरादाबाद, मुजफ्फरनगर, बिजनौर और बागपत में आंधी, ओलावृष्टि और तेज बारिश की संभावना है। मौसम केंद्र लखनऊ के प्रभारी निदेशक जेपी गुप्ता के अनुसार, अगले 48 घंटों के दौरान पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों के कुछ क्षेत्रों में तेज हवा और गरज के साथ बारिश हो सकती है. कुछ क्षेत्रों में ओला वृष्टि भी हो सकती है।


बुधवार को आए आंधी-तूफान में राज्य सरकार की ओर से जारी बयान के मुताबिक, सबसे अधिक आगरा में 43 व्यक्तियों की मौत हुई है, जबकि 51 लोग घायल हुए हैं. बिजनौर में तीन बरेली में एक सहारनपुर में एक, पीलीभीत में एक व्यक्ति की मौत हुई है. सूबे में 73 लोगों की मौत हुई है। इस बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि अपने अपने जिलों में आंधी-तूफान और ओलावृष्टि में प्रभावित व्यक्तियों और उनके परिजनों को 24 घंटे के भीतर राहत पहुंचाने का निर्देश दिया है।

⇩ ये खबर अपने दोस्तों को भी WhatsApp पर शेयर करें