जयंत चौधरी बोलेः खेत में काम करने वाले बुजुर्गो का जमाना गया, अब…

नई दिल्ली। एक न्यूज चैनल के कार्यक्रम में रालोद नेता जयंत चौधरी ने कहा कि समाज में अब एक बदलाव आया है। गांव में पहले फैसला लेने वाले पुराने लोग होते थे। अब समाज और घर के फैसले युवाओं के हाथों में आ गये हैं, क्योंकि अब वह शहरों में कमाने लगे हैं। पहले खेतों में कमाने वाले बुजुर्ग लेते थे।


जयंत चौधरी ने कहा कि बेरोज़गारी से ग़ुस्सा और दुनिया से जुड़ा गांव का युवा है। देश-दुनिया को लेकर जागरुक है। हाथरस में दलित के बारात मामले पर जयंत ने कहा कि यह बहुत बड़ा कलंक है। वहां के स्थानीय प्रशासन ने हाईकोर्ट में जाकर दलील दी कि हम सुरक्षा नहीं दे सकते। हालांकि, बुनियादी ढांचा बदल रहा है, मगर अभी भी चीजें मौजूद हैं। मुहल्ला का मुहल्ला अभी भी बंटा हुआ है। उन्होंने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के परिणाम से उम्मीद जगी. आदमी हारने से ज्यादा सीखता है. कैराना की जीत से हमने यह साबित किया कि यहां के लोग सांप्रदायिक नहीं हैं। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया में ट्विटर पर एक फौज खड़ी हो गई है. बहुत से लोग इसका सही इस्तेमाल करते हैं तो कोई गलत. पहले वायरल शब्द बुखार होता था, मगर आज हर युवा बोलता है वायरल होना. समय बदल रहा है।

loading…